डायरेक्ट सेल्लिंग प्रोफेशनल के लिए मह्तवपूर्ण टिप्स !

एक डायरेक्ट प्रोफेशनल के तौर पर कैसे बनाये एक सशक्त टीम।
आपकी सफलता में टीम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण किरदार होता है, यह सभी डायरेक्ट सेल्लिंग व्यवसहियो के लिए मुलभुत रूप से अनिवार्या है। यदि आपके सपने बड़े है तो आपके पास बड़ी जरुरी है। टीम वास्तव में एक प्रकार की भीड़ ही होती है पर व्यवस्थित तथा कुछ खास नियमो का अनुसरण करनी वाली होती है। ध्यान रहे यदि आपकी टीम व्यवस्थित नहीं है तो वह केवल भीड़ के सिवा कुछ नहीं है।
"जिस तरह से आप अपनी टीम को देखते है, आप उसके साथ वैसा ही व्यवहार करते है , और जैसा व्यवहार आप अपनी टीम के सात करते है देर सवेर आपकी टीम वैसे ही जाती है"
सुरुवात में लोग आपके साथ भीड़ के रूप में ही जुड़ते है पर एक डायरेक्ट सेलिग प्रोफेशनल होने के नाते यह कर्तव्य बनता है आप अपनी टीम के लोगो का के लोगो का एक एक लक्ष्य निर्धारित करे तथा उनके लक्ष्य को अपने तथा अपनी संस्था के मिशन से सम्बंदित कराये। एक टीम में बहुत शरीर हो सकते है पर उनका दिमाग एक होना चाहिए, लक्ष्य एक होना चाहिए, सभी एक ही प्रकार के नियमो का पालन करने वाले होने चाहिए।
परन्तु दुर्भाग्य से मेरा सामना बहुत लोगो से होता है जो अक्सर अपने लीडर अथवा साथी सदस्यो के बारे में शिकायत करते नजर आते है, यह शिकायतों वाला व्यवहार अक्सर बड़ी गलतफहमियो को जन्म देता है जो टीम की एकता तथा संगठन के जानलेवा साभित होता है। बातो को लम्बा न खीचते हुए मई मैं आपको कुछ टिप्स दे रहा हु , की क्या करना चहिये और क्या नहीं करना चहिये
निम्नलिखित काम करे !
१. अपनी टीम के सात वैसा व्यवहार जैसे आप उनको देखना चाहते है उन्हें स्टार या डायमंड संबोदित करे।
२. उनके नाम ले कर बुलाये ( यह आपके तथा उनके बीच बिहतरिन सम्बन्ध बनाएगा )
३. उनकी सार्वजनिक तौर पे तारीफ करे।
४. टीम के साथ अपनी सफलता बाटे ! (टीम के प्रति अपना आभार प्रकट करना कभी न भूले )
५. टीम के सुने (सभी के अंदर बक्ता होता है )
६. टीम की छोटी छोटी उपलव्दीयो पर उनका हौसला बढ़ाइये।
७ उनसे ऐसे मिले मनो आप उनका इंतज़ार कर रहे थे
८. टीम सदस्यों को सच्ची तारीफ करे
९. उनकी छोटी उप्लाव्दियों को ऐसा देखे जैसे उन्होंने बड़ा काम हो।
१०. उन्हें अहसास दिलाये की ओ आपकी टीम का अहम हिस्सा है !
निम्नलिखित काम ना करे !
१. किसी के अहम् को ठेस ना करे।
२. अपनी टीम के साथ पैसो का लेन देन ना रखे।
३. कोई भी शिकायत अकेले में करे जब ना देख रहा हो।
४. अपना फैसला टीम पर न लदे आपसी रजामंदी जरुरी है।
५. गलतफमियों को जितना जल्दी हो सके खत्म करे।
६. टीम के साथ टाल मटोल का रवैया ना रखे।
७. अपनी नकारात्मक छबि ना बनने दे।
८. किसी व्यक्ति अथवा समुदाय को खास ध्यान न दे या अनदेखा ना करे।
९. टीम के बेकार के गॉशिप को प्रोत्साहित न करे।
१०. किसी आयोग्य सदस्य की झूटी तारीफ करे।
यदि आप डायरेक्ट सेल्लिंग प्रोफेशनल के तौर पे उपरोक्त बातो को अपनी टीम में लागु कर लगे तो आप अपनी टीम की उत्पादन में बहुत जादुई बढ़ोतरी पाएंगे।
ववदीय वीरेंदर सजवान +91 -9310247709 

Comments

Popular posts from this blog

जब हवा चलती है…..

Have Patience